slide3-bg



क्रोध के नुकसान सौ, क्षमा के फायदे हजार - पूज्य श्री ललितप्रभ


1. गुस्सा इंसान को बर्बादी की तरफ ले जाता है। गुस्से में अगर नौकरी छोड़ोगे तो करियर बर्बाद होगा, मोबाइल तोड़ोगे तो धन बर्बाद होगा, परीक्षा न दोगे तो वर्ष बर्बाद होगा और पत्नी पर चिल्लाओगे तो रिश्ता बर्बाद होगा।

2. गुस्सा हमारा मँुह खोल देता है, पर आँखें बंद कर देता है। पागलपन से शुरू होता है और प्रायश्चित पर पूरा होता है।

3. गुस्सा करने से पहले सौ बार सोचिए। इससे लाभ नहीं, नुकसान ही होना है। जो काम रूमाल से निपट सकता है, भला उसके लिए रिवॉल्वर का उपयोग क्यों करते हो?

4. गुस्सा आ भी जाए तब भी वाणी पर नियंत्रण रखने की कोशिश कीजिए, नहीं तो आप हानि उठाएँगे। याद रखिए, माँ के पेट से निकला बच्चा और मुँह से निकले बोल वापस कभी अंदर नहीं जाते।

5. अगर गुस्सा करना ही है तो किसी को सुधारने के लिए कीजिए। अहंकार जताने और किसी को नीचा दिखाने के लिए गुस्सा मत कीजिए।

6. क्रोध के वातावरण में भी मुस्कान को तवज्जो दीजिए। पत्नी कभी गुस्से में कहे कि मैं पीहर चली जाऊँगी तो बुरा मत मानिए, उसे शूटकेस तैयार करके दीजिए और कहिए - तू पीहर चली जा, मैं ससुराल चला जाऊँगा और बच्चों को ननिहाल भेज दूँगा, पर अपन रहेंगे तो साथ-साथ।

7. गुस्से को जीतने के लिए क्रोध के वातावरण से दूर रहिए। मौन का अभ्यास बढ़ाइए, सकारात्मक व्यवहार कीजिए, विनोदी स्वभाव के मालिक बनिए, सप्ताह में एक दिन क्रोध का उपवास अवश्य कीजिए।

8. शांति के वातावरण में आप क्रोध करते हैं, तो दुनिया की नजर में आप उग्रवादी कहलाएँगे, वहीं यदि क्रोध के वातवरण मेें भी आप शांत रहेंगे, तो आप किसी देवदूत की तरह पहचाने जाएँगे।

9. माफी माँगने का मतलब यह नहीं कि आप गलत हैं और सामने वाला सही है, वरन इसका मतलब यह है कि आप रिश्ता निभाना जानते हैं।

10. क्षमा के बड़े अनूठे लाभ हैं। इससे मानसिक शांति, रिश्तों में मिठास, कार्य-क्षमता में बढ़ोतरी, बेहतर नजरिया, प्रभावी भाषा और व्यक्तित्व विनम्र बनता है।

11. याद रखिए, अगर हम किसी की एक गलती माफ करेंगे, तो भगवान हमारी सौ गलतियाँ माफ करेंगे।

12. संकल्प करें और स्वभाव बदलें। आखिर क्रोध के कीचड़ में कब तक पड़े रहेंगे। भगवान की हमें प्रेरणा है: हे जीव! शांत रह। हम सब शांति के पथिक बनें।


Our Lifestyle

Features