slide3-bg



सकारात्मक सोचे, सफलता पाएँ: संत चन्द्रप्रभ

बैंगलोर

17 Jul 2017

राष्ट्र-संत श्री चन्द्रप्रभ महाराज ने कहा कि नकारात्मक सोच तोड़ती है, सकारात्मक सोच जोड़ती है। साधारण किस्म के लोग
गिलास आधा खाली देखते हैं, समझदार लोग गिलास आधा भरा देखते हैं। ऊँचाई छूने वाले लोग गिलास पूरा भरा देखते हैं।ताड़ासन करके भी हम अपनी हाईट 2 इंच से ज्यादा नहीं बढ़ा सकते, पर सोच को ऊँची उठाकर  एवरेस्ट से भी ज्यादा ऊँचे हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि ईश्वर के घर से हम में से हर इंसान को एक बहुत बड़ी ताकत मिली है, वह है - सोचने-समझने की क्षमता। अपनी इस एक क्षमता के बलबूते इंसान संसार के समस्त प्राणियों में सबसे ऊपर है। हम सोच सकते हैं इसीलिए हम इंसान हैं। यदि हमारे जीवन से सोचने की क्षमता को अलग कर दिया जाए तो हमारी औकात किसी चैपाये जानवर से अधिक न होगी। श्री चन्द्रप्रभ यहाँ श्रद्धालुओं से खचाखच भरे मराठा हॉस्टल मैदान में  बड़ी सोच का बड़ा जादू विषय पर जनमानस को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आपकी सोच आपके विचारों को, विचार वाणी को, वाणी व्यवहार को, व्यवहार आपके व्यक्तित्व को प्रेरित और प्रभावित करता है। एक सुंदर और खूबसूरत व्यक्तित्व, व्यवहार, वाणी और विचारों का मालिक बनने के लिए अपनी सोच को कुतुबमीनार जैसी ऊँची, ताजमहल जैसी सुन्दर और देलवाड़ा के मन्दिरों जैसी खूबसूरत बनाइए। उन्होंने कहा कि सोच को सुन्दर बनाना न केवल अपने संबंध, सृजन और आभामंडल को सुन्दर तथा प्रभावी बनाने का तरीका है बल्कि सुन्दर सोच परमपिता परमेश्वर की सबसे अच्छी पूजा है। संतश्री ने कहा कि अच्छी सोच स्वयं ही एक सुन्दर मंदिर है जहाँ से सत्यम् शिवम् सुन्दरम् का मन लुभावन संगीत अहर्निश फूटता रहता है। सोच अगर सुन्दर है तो स्वर्ग का द्वार सदा आपके लिए खुला है। सोच के बदसूरत होते ही शैतान का हम पर राज हो जाता है। उन्होंने कहा कि एक अच्छी, सुन्दर और
सकारात्मक सोच स्वयं ही महावीर का समवसरण, बुद्ध का स्वर्ण-कमल, राम का रामेश्वरम् और कृष्ण का वृंदावन धाम है।
राष्ट्र-संत ने सभी श्रद्धालुओं को निवेदन किया कि जरा दो मिनट के लिए इस संसार के प्रति अच्छी सोच लाकर देखिए, आपको किसी दूसरे स्वर्ग को पाने की बजाय इसी धरती को स्वर्ग जैसा सुन्दर बनाने की तमन्ना जग जाएगी। श्री चन्द्रप्रभ महाराज ने कहा कि लाल बहादुर शास्त्री और अब्दुल कलामजैसे लोग गरीब घर में पैदा होकर भी और धीरूभाई अंबानी इंटरमीडियट होकर भी शीर्ष पर पहुँच गए, तो फिर हम ही मुँह लटकाए मायूस क्यों बैठे हैं। जीवन में फिर से जोश जगाएँ और कामयाबी के आसमान को छूने के लिए अभी इसी वक्त छलांग लगा दें। उन्होंने कहा कि आपकी हाइट अगर साढ़े पाँच फुट की है तो ताड़ासन करके भी आप अपने सिर को छह फुट से ऊँचा नहीं कर सकते, पर आप अपनी सोच को ऊँचा उठाना चाहें तो हिमालय से भी ऊपर उठ सकते हैं। संतप्रवर ने कहा कि संकीर्ण सोच, स्वार्थी सोच, निराशा भरी सोच, मंथरा सोच, घमंडी सोच - सोच की विकृतियाँ हैं। इन विकृतियों के झाड़-झंखारों को अपने मन के खेत से उखाड़ फेंकिए। आपके दिमाग की जमीन उपजाऊ है, नई ऊर्जा और उमंग के साथ सबको मधुर फल देने वाले बीज बोइए। उन्होंने कहा कि जिस पड़ौसी से आपको जलेसी है, जिस सास से आपको शिकायत है, जिस पिता से आपको पीड़ा है, जिस ग्राहक से आपको ग्लानि है, कृपया उनके प्रति मात्र 10 मिनट के लिए अपनी सोच को सुन्दर और सकारात्मक बनाकर देखिए, आप उन्हें गले लगाने को बावले हो उठेंगे।

राष्ट्र-संत ने कहा कि सारे झगड़ों की जड़ है हमारी नकारात्मक सोच, सारे समाधानों का आधार है हमारी सकारात्मक सोच। गिलास को आधा भरा हुआ देखेंगे तो कमजोर का भी उपयोग कर लेंगे। गिलास आधा खाली देखेंगे तो सगे भाई से भी
पल्लू झाड़ बैठेंगे। उन्होंने कहा कि सफलता की चाबी है - गिलास हमेशा भरा हुआ देखो। किसी में कोई कमी है तो उससे समझौता कर लो। ईंट के रूप में न सही, मिट्टी के रूप में तो सबका उपयोग किया ही जा सकता है। समारोह का शुभारम्भ लाभार्थी परिवार संघवी श्रीमती शांतिदेवी-पुखराजजी, तेजराज गोलेच्छा, श्री सदाशिव अध्यक्ष, बेंगलोर जिला भारतीय जनता पार्टी, उदय गुरुड़ाचार्य पूर्व विधायक, सुरेश छल्लाणी, अध्यक्ष, स्थानकवासी जैन कोन्प्रेंस कर्नाटका, श्री इन्द्र नाहर, अध्यक्ष प्रवासी संघ, बैंगलोर, मनीष श्रीमाल, हैदराबाद एवं महेश पारख ने दीपप्रज्वलन कर किया।


Event Gallery


Our Lifestyle

Features